सफलता का अनोखा मार्ग (Unique path to success)

"आप सफल एवं अमीर बनना चाहते है लेकिन सफल एवं अमीर लोगो को ईर्ष्या करते 
है तब आप कभी भी सफल एवं अमीर नहीं बन पाएंगे। "

सफलता का अनोखा मार्ग क्या है ?

हर किसी को एक मार्ग चाहिए क्योंकि उसको उस मार्ग से अपने लक्ष्य को प्राप्त करना है। मालूम है, लक्ष्य तो सभी का एक ही होता है लेकिन रास्ते अलग-अलग होते है ऐसा क्यों ? क्योंकि सफल होने वाले लोग अपना मार्ग स्वयं बनाते है इसलिए तो ढेर सारे रास्ते हो जाते है। कोई मोटिवेशन के माध्यम से सफल होना चाहता है, कोई हीलिंग के माध्यम से सफल होना चाहता है, कोई लेखक बनकर सफल होना चाहता है, कोई बिजनेसमैन बनकर सफल होना चाहता है, कोई किसान बनकर सफल होना चाहता है, कोई टीचर, कोई वकील, कोई इंजीनियर बनकर सफल होना चाहता है, कोई नेता , कोई डॉक्टर , मंत्री बनकर सफल होना चाहता है, कोई वैज्ञानिक बनकर सफल होना चाहता है ये सारे मार्ग है लेकिन सफलता एक मंजिल है एक शिखर है, एक गोल है , अमीरी, सफलता, सुख, प्रसिद्धि, सम्मान और जीवन को सार्थक बनाने की तमन्ना, एक कल्पना , एक सोच, एक सपना, एक ख्वाब हर कोई देखता है और हर कोई चाहता है कि अपनी जिंदगी में मै सफल हो जाऊं क्योंकि अपने-अपने तरीके से हर कोई मेहनत करता है, हर कोई चाहता है, हर कोई कोशिस करता है लेकिन होता है क्या ही ? अंत में कितने लोग सफल होते है जरा सोच कर देखिये।

अगर कोई इंसान सौ लोगो को लेकर चलता है और सौ लोगो की उम्र २५ साल की होती है और उन्होंने एक निर्णय लिया कि हमे जिंदगी ६५ वे वर्ष में जाकर सफल हो जाना है और सबके पास जोश, जुनून , विश्वास , पैशन , उमंग , ख़ुशी हर चीज़ है और उन्होंने यात्रा शुरू की। जब ६५ वर्ष की उम्र में पहुंचे तब जो आंकड़ा निकल कर आया उसमे देखा गया कि मुश्किल से दस लोग ही सफल हुए और उनमे से भी पांच लोग ठीक से सफलता प्राप्त कर पाए लेकिन उनमे से एक व्यक्ति शिखर पर पंहुचा, बाकी के चार लोग महानतम सफलता प्राप्त कर पाए और उसके नीचे के पांच लोग सामान्य रहे लेकिन बाकी १० लोग कहाँ गए जबकि प्रतिस्पर्धा सौ में थी।

जो १० लोग बचे वो आज भी वही है जो पहले से शुरुआत तो उन्होंने अच्छी की थी, उनके अंदर भी वही जोश, वही जुनून ,कि मुझे सफल होना है लेकिन उस उम्र के पड़ाव में, ४० वर्ष के बाद उन सभी लोगो में से सिर्फ और सिर्फ एक इंसान सफल होता है और सच्ची सफलता प्राप्त करता है ऐसा क्यों है ? क्या वो १० लोग सफल नहीं होना चाह रहे थे, चाह रहे थे लेकिन उनके पास तजुर्बे नहीं थे, लेकिन उनके पास मेहनत करने की काबिलियत नहीं थी, लेकिन उन्होंने सही राह नहीं ढूँढा क्योंकि वो लोग उसी राह पर चलते रहे, लकीर उन्होंने सही राह नहीं ढूँढा क्योंकि वो उसी राह पर चलते रहे, लकीर के फ़कीर बने रहे, जो पुराने ढर्रे थे, पुराने थे उसी पर चलने की कोशिश करते रहे लेकिन उनमे से ५ लोग या एक इंसान सफल होता है तो उनमे से उन लोगो ने एक नई राह बनाई। मंजिल सबकी सफलता है, लक्ष्य सबकी सफलता है, सब चाहते है सबका लक्ष्य होता है कि मै सफल हो जाऊं लेकिन एक नई राह बनाने वाला इंसान ही सच्ची सफलता प्राप्त कर सकता है अपनी उम्र के ६०वें , ६५वें वर्ष में जाकर , कुछ लोग बहुत कम समय में ही सफल हो जाते है और वो सारी चीज़े प्राप्त कर लेते है लेकिन सफलता का अंत करने में वक़्त तो लगता है। इसलिए आप भी एक ऐसा अनोखा मार्ग तलाश कीजिये जिस राह पर चलकर ही आप सफल हो सकते है और ऐसे रास्तों को बताने के लिए मै आपका हमसफर बैठा हुआ हूँ और आपने इस नियम को सुना है तो इस नियम पर अम्ल करना शुरू कीजिए फिर देखिये आपके जीवन में चमत्कार हो जायेगा ।

Available Here-
All Pyramids, All Angel Cards, All Reiki Cards, Photo of professor Mikau Usui, All Reiki Books, Healing Chart of Affirmation, Angel Oracle Cards, Antah Karna Chart
]

Click On Just Dial 👉 https://bit.ly/30TrcpT
Available eBook In Amazon kindle
(Attract Money & Mind Programming )
Part 1;- https://amzn.to/2OvvReV
Part 2;- https://amzn.to/3kW457B
Part 3 ;- https://amzn.to/2OvwsNH

(Vicharon Ki shakti or Safalta Book)
Part 1 ;- https://amzn.to/3qxFYNw
Part 2;- https://amzn.to/2N2QO0s

Available eBook in Instamojo
(Attract Money & Mind Programming )
Part 1:- https://bit.ly/2PBHMIz
Part 2:- https://bit.ly/3qoWiQI
Part 3:- https://bit.ly/3t6ck3w