क्यों जरुरी है? हीलिंग के लिए एक स्थान का चुनाव (Why is it important? Choose a place for healing) By-Satya Narayan

“रेकी हीलर कुदरत को समझने की शक्ति प्राप्त कर लेते है, लेकिन दैवीय शक्तियां रेकी हीलर के संपर्क में आना सौभाग्य समझती है।”

क्यों जरुरी है?एक स्थान का चुनाव-

भोजन पकाने के लिए एक निश्चित स्थान बनाया गया और हर दिन हम वही भोजन बनाते है क्योंकि उसकी एनर्जी, उसका वाइब्रेशन, उसकी औरा, उसकी पॉवर वहां पर फ़ैल जाती है और उस औरा में जो व्यक्ति रहेगा उसके दिलो-दिमाग में उस तरह के पॉजिटिव या उस तरह के अच्छे वाले विचार आएंगे। उसी तरह से एक बैडरूम बनाया गया, वाश रूम, बनाया गया, डाइनिंग हॉल, स्टडी रूम, पूजा स्थान, मंदिर-मस्जिद इस तरह के तमाम एक निश्चित स्थान बनाये जाते है और उसी तरह से हमने देखा की ऋषि-मुनि, महात्माओं, संत जो लोग तपस्याये करते आये है साधनायें करते आये है। वो जंगलों में, पहाड़ों में, गुफाओं में, या कही दूर एक कुटिया बनाकर एक स्थान पर निश्चित स्थान पर साधना करते है। गौतम बुद्धा ने पीपल के वृक्ष के नीचे बैठकर साधना की और वह स्थान आज भी पवित्र माना जाता है। तो उस स्थान पर उस व्यक्ति की एनर्जी फ़ैल जाती है ऊर्जा फ़ैल जाती है जब कोई व्यक्ति एक निश्चित जगह बैठकर एक निश्चित काम करता है उस स्थान पर वैसी ही एनर्जी फ़ैल जाती है। उसकी औरा में शरीर में, उसके दिलो-दिमाग में, उसके विचारों में वैसी ही एनर्जी होती है जिसकी वजह से वो अपने काम को बेहतर ढंग से कर पाता है। उसी तरह से हर हीलर को एक निश्चित स्थान का चुनाव कर लेना चाहिए। जिस स्थान पर वो अपनी और दूसरों की हीलिंग करना चाहता है। कोई एक शांत एकांत रूम निश्चित करे। उस रूम में बिछा सकते है जैसे गद्देदार कोई भी चीज़ या एक लम्बी सी बेंच या टेबल रखे उंचाई पर जिस पर साफ़ सुथरा कोई भी कपड़ा हो फॉम का कपड़ा हो या फॉम हो या कोई गद्दा हो और उसके ऊपर से बेडशीट हो। ध्यान रहे वह स्थान डायरेक्ट जमीन से कनेक्टेड न हो लकड़ी की बेंच होनी चाहिए या प्लास्टिक की भी हो सकती है। लेकिन लोहे या किसी और मेटल में न हो। वहां पर बैठकर शान्तिकान्त जगह पर हीलिंग करे।

उस स्थान पर हीलिंग करने से क्या होगा कि आपका माइंड है, जो आपकी बॉडी है, जो आपका थॉट है, जो आपकी इमोशंस है, जो भावनाएं है विचार है वो उसी जगह पर फोकस होंगे कि हमे यहाँ पर हील करना है, उस पेशेंट को लिटाकर हील करना है और हील करके उसको ठीक करना है। तो आपके माइंड की प्रोग्रामिंग हो जाती है कि हमे इस स्थान पर पॉजिटिव रिजल्ट मिलेंगे ही मिलेंगे। जैसे ही किसी व्यक्ति को हील कर ले उस स्थान पर क्लींज जरूर करे। और क्लींज करके फिर फील करे एक शील्ड भी बना कर रखे जिससे कि निगेटिविटी उस शील्ड से टकरा-टकराकर नष्ट होती रहे। शील्ड के लिए और क्लींजिंग के हमने आपके लिए अलग-अलग कई वीडियो बनाये है और अलग-अलग इसके ऊपर बुक में टॉपिक भी लिखे हुए है। तो उन टॉपिक्स को आप ध्यान से पढ़िए तो आपकी सारी चीज़े समझ में आ जाएगी कि आपकी शील्ड कैसे बनाना क्लींजिंग कैसे करनी है। हीलिंग तो सबको पता है। तो एक स्थान बनाने से आप बहुत फायदे में रहते है और कई बेनिफिट्स आपको होने लग जाते है। जैसे कि आपका माइंड एकाग्र रहेगा, आपके जो क्लाइंट है उनका माइंड एकाग्र रहेगा और एनर्जी पॉजिटिव हो जाती है, हीलिंग पॉवर बढ़ जाती है।

Available Here-
All Pyramids, All Angel Cards, All Reiki Cards, Photo of professor Mikau Usui, All Reiki Books, Healing Chart of Affirmation, Angel Oracle Cards, Antah Karna Chart.